30 वर्ष बाद भारत में सबसे बड़ा टिड्डी दल का हमला, अभी तक किया 50000 हेक्टेयर फसलों को बरबाद

साल 2020 में कुछ अच्छा नहीं हो रहा, पूरा देश इस वक्त  कोरोना संकट से जूझ रहा है, पूरा उत्तर भारत प्रचंड गर्मी से तप रहा है, मौसम में रोज़ नए नए बदलाव देखने को मिल रहे हैं, मजदूर बेरोजगार हैं, ऐसी तमाम तरह की समस्या होने के बाद अब देश में एक नई समस्या आ चुकी है। यह समस्या टिड्डी दल की है।

यह टिड्डी दल रोज़ भारत की फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। 30 वर्षों में देश में यह सबसे खराब टिड्डी दल का फसलों पर हमला है। भारतीय अधिकारियों ने ड्रोन और ट्रैक्टरों की सहायता से टिड्डी दलों पर  कीटनाशकों के साथ स्प्रे किया है। टिड्डों द्वारा नष्ट किए गए लगभग 50,000 हेक्टेयर के फसल के साथ, भारत 1993 के बाद से अपने सबसे खराब भोजन की कमी का सामना कर रहा है।

भारत के टिड्डी चेतावनी संगठन के उप निदेशक के.एल. गुर्जर ने बताया कि राजस्थान और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में ये ज्यादा सक्रिय हैं। टिड्डियों ने महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश सहित भारत के अन्य राज्यों में आने के लिए भी अपना रास्ता बना लिया है। यूपी के 10 जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

Screenshot 2020 05 27 23 13 29 06

पाकिस्तान से भारत में आने के बाद टिड्डियों के झुंड ने राजस्थान के जयपुर शहर में घुसपैठ कर ली। गुर्जर ने चेतावनी दी कि यदि हवा की गति और दिशा अनुकूल थी तो टिड्डियां राजधानी दिल्ली की ओर भी बढ़ सकती हैं।

खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) के अनुसार रेगिस्तानी टिड्डे आमतौर पर भारत के पश्चिमी हिस्से और गुजरात राज्य के कुछ हिस्सों पर जून से नवंबर तक हमला करते हैं लेकिन इस साल टिड्डी दलों को अप्रैल की शुरुआत में ही  भारत में देखा गया था।

एफएओ के अनुमान के अनुसार, 40 मिलियन टिड्डी दल का झुंड 35,000 मनुष्यों के बराबर भोजन खा सकता है।टिड्डी दल ने राजस्थान और मध्य प्रदेश राज्यों में मौसमी फसलों को नष्ट कर दिया है। इससे आने वाले समय में कम उत्पादन होगा और खाद्य पदार्थों की कीमतों में वृद्धि होगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: