अम्फान से मची तबाही का जायजा लेने पश्चिम बंगाल रवाना हुए पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज चक्रवात अम्फान की स्थिति का जायजा लेने और प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के लिए पश्चिम बंगाल और ओडिशा की यात्रा करेंगे। प्रधानमंत्री आपदा के बाद किए जाने वाले उपायों पर निर्णय लेने के लिए समीक्षा बैठकों में भी भाग लेंगे। ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री से अपील की थी की वे पश्चिम बंगाल आकर प्रभावित इलाकों का दौरा करें।

IMG 20200522 WA0018

प्रधान मंत्री की पश्चिम और ओडिशा यात्रा का एक अस्थायी कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। इसके अनुसार, मोदी सुबह लगभग 10:45 बजे कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे उसके   बाद वे हेलीकॉप्टर की मदद से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। 11:20 बजे, प्रधानमंत्री राज्य सरकार और जिला अधिकारियों के साथ बशीरहाट में एक बैठक में भाग लेंगे। प्रधानमंत्री बैठक के बाद हवाई अड्डे पर लौट आएंगे और उसके बाद वे दोपहर 1:30 बजे,  ओडिशा के भुवनेश्वर के लिए रवाना होंगे।

इससे पहले गुरुवार को पीएम ने कहा था कि वे प्रार्थना करते हैं कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा में स्थिति जल्द से जल्द सामान्य हो जाए। पीएम ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि “मेरी सवेदनाएं ओडिशा के लोगों के साथ हैं। पीएम ने लिखा राज्य चक्रवात अम्फान के प्रभावों का बहादुरी से मुकाबला कर रहा है। अधिकारी प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए काम कर रहे हैं और मैं प्रार्थना करता हूं कि जल्द से जल्द स्थिति सामान्य हो जाए।

चक्रवात प्रभावित भागों में NDRF की टीमें काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि शीर्ष अधिकारी स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और पश्चिम बंगाल सरकार के साथ अच्छे ताल मेल के साथ काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रभावितों की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी, उनको हर संभव मदद पहुंचाई जाएगी।

पीएम ने कहा मैंने अंफान की वजह से बंगाल में नुकसान के दृश्य को देखा है। इस चुनौतीपूर्ण समय में पूरा देश में पश्चिम बंगाल के साथ एकजुटता से खड़ा है और राज्य के लोगों के लिए प्रार्थना कर रहा है। पीएम ने कहा स्थिति को सामान्य करने के प्रयास जारी है।

हम आपको बता दें कि चक्रवात अम्फान ने बुधवार को कोलकाता सहित पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों को बहुत नुकसान पहुँचाया और कम से कम 72 लोगों की जान ले ली।

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: