विशाखापट्टनम गैस रिसाव मामले में गठित उच्च शक्ति समिति ने कहा, “प्रश्नावली पर एलजी पॉलिमर के जवाब का है इंतजार”

Pic Credit: ANI

विजयवाड़ा, आंध्र प्रदेश: विशाखापट्टनम के एलजी पॉलिमर प्लांट में हुए गैस रिसाव हादसे के जांच के लिए गठित उच्च शक्ति समिति के अध्यक्ष ने यह जानकारी दी कि कंपनी ने अभी तक उनके प्रश्नावली का जवाब नहीं दिया है।

समिति ने प्रेस नोट जारी कर यह जानकारी दी। उसमे यह लिखा था, “विशाखापट्टनम जिले के आरआर वेंकतापुराम स्थित एलजी पॉलिमर प्रा० लि० में 7 मई 2020 की सुबह तीन बजे के आस पास एक दुर्घटना हुई। जिसमें स्टोरेज टैंक से स्टाइरिन गैस का रिसाव हुआ था और इसकी वजह से आस पास के इलाके में रहने वालों पर असर पड़ा था। इस दुर्घटना के होने के पीछे के कारण की छानबीन और इस घटना से हुए नुकसान से उभरने के लिए उठाए जा रहे कदमों पर निगरानी के लिए आंध्र प्रदेश सरकार ने 8 मई की तारीख को G.O.R.T no 803 के तहत एक उच्च शक्ति समिति को गठित किया।”

“जैसा कि पहले सूचित किया गया है, समिति ने जनता से उनके विचार, प्रश्न, और तकलीफें पूछी थी। इसके जवाब में समिति को 243 अभ्यावेदन ईमेल के जरिए प्राप्त हुए एवं 176 अभ्यावेदन फोन और वॉट्सएप के जरिए मिले। इन अभ्यावेदन को आधार बनाकर समिति ने एक प्रश्नावली तैयार की और फैक्ट्री डिपार्टमेंट एवं सम्बन्धित नियामकों के माध्यम से इसे एलजी पॉलिमर प्रा० लि० तक पहुंचाया। एलजी पॉलिमर की तरफ से इसके जवाब का इंतजार किया जा रहा है।”
समिति ने ये भी जानकारी दी कि कुछ नियामकों से जवाब मिले हैं वहीं कुछ के जवाब का अभी इंतजार किया जा रहा है। जनता से मिले अभयदान की अच्छी तरह जांच हो रही है और इस मामले में उच्च शक्ति समिति की रिपोर्ट तैयार करने में भी उनका इस्तमाल हो रहा है।”

“समिति अपने 9, 10, 11, 12 जून एवं 6, 7, 8 जून 2020 के विशाखापट्टनम दौरे में कई हितधारकों से पहले ही विस्तृत बातचीत कर चुकी है। समिति ने 15 जून 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हैदराबाद के पर्यावरण इंजीनियर और पर्यावरणविद्, डॉ० सगर्धरा और हैदराबाद के वैज्ञानिक, डॉ० बाबूराव से विचार-विमर्श भी किया।”
“ समिति ने इस सप्ताह सम्बन्धित नियामक अधिकारियों के साथ और भी मुलाकात और सुनवाई करने का तय किया है। सरकार द्वारा इंगित समय सीमा के अनुसार भारत सरकार के प्रतिनिधियों सहित सभी सदस्यों के इनपुट के साथ शीघ्र ही रिपोर्ट को अंतिम रूप देने पर भी समिति काम कर रही है”, प्रेस नोट में समिति ने लिखा।

7 मई को विशाखापट्टनम जिले के आरआर वेंकतापुराम गांव में स्थित एलजी पॉलिमर के प्लांट से स्टाइरिन गैस के रिसाव के कारण दस लोगों ने अपनी जान गवां दी थी। इसके अलावा कई लोग बीमार भी पड़ गए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: