मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “विद्यालयों को दोबारा खोलने को लेकर समीक्षा 31 जुलाई को करेंगे”

भोपाल, मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विद्यालयों को दोबारा खोलने को लेकर कहा कि वह इस पर 31 जुलाई को समीक्षा करेंगे।
उन्होंने इसमें जोड़ते हुए कहा कि कक्षा बारहवीं के जो छात्र परीक्षा में नहीं उपस्थित हो पाए थे उन्हें दोबारा से परीक्षा लिखने का मौका दिया जाएगा।

उन्होंने एक बयान में कहा, “स्कूलों को दोबारा खोलने को लेकर समीक्षा 31 जुलाई को होगी। 12वीं के जो छात्र किसी भी कारणवश परीक्षा नहीं दे पाए थे उनके लिए परीक्षाएं दोबारा से होंगी।”

देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने की वजह से पूरे देश के स्कूल बंद है। कुछ राज्य सरकारों ने इसपर फैसला ले लिया है और कुछ को अभी लेना बाकी है।
विद्यालयों के अलावा देशभर के कॉलेज और विश्वविद्यालय भी बंद है। कई सारी परीक्षाएं जैसे JEE Mains, NEET आदि भी इस महामारी के कारण रद्द कर दी गई थी। हालांकि मानव संसाधन मंत्रालय ने उन्हें दोबारा कराने के लिए तारीखें तय कर दी है पर इस पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

विश्वविद्यालयों में परीक्षा आचरण और उनके दोबारा संचालन को लेकर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी ने अप्रैल के आखिरी सप्ताह में निर्देशों की एक सूची जारी की थी। इसमें उन्होंने यह कहा था कि विश्वविद्यालय अगर चाहे तो फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा 1 जुलाई से ले सकते हैं। इसके अलावा वह अपने छात्रों को उनके इंटरनल परीक्षाओं में प्रदर्शन के आधार पर आकलन कर सकते हैं और यह आंकड़े ना होने की स्थिति में वह उन छात्रों के पिछले साल के प्रदर्शन पर इस साल का परिणाम तैयार कर सकते हैं।

दोबारा संचालन को लेकर यूजीसी ने कहा था कि नए सत्र की शुरुआत विश्वविद्यालय 1 अगस्त से शुरू कर सकते हैं। नए एडमिशन वाले छात्रों के लिए सत्र सितंबर महीने से शुरू किया जा सकता है।
हालांकि, जिस तरह कोरोना वायरस के आंकड़े दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में बढ़ रहे हैं विद्यालयों या फिर किसी भी प्रकार के शैक्षणिक संस्थानों के खुलने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: