कानपुर में गुस्साए लोगों ने निकाली शी जिनपिंग की शव यात्रा

भारत चीन मुठभेड़ कोई नहीं कहानी नहीं हैं। भारत और चीन के बीच दशकों से सीमा मुठभेड़ चलती आ रही हैं। इसी बीच गलवान घाटी में भारत चीन सीमा मुठभेड़ में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए।

कई चर्चाओं के बाद चीन का यह कदम भारतीयों के लिए आक्रोश का विषय बन गया हैं। उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासियों ने प्रतीकात्मक रूप से चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की शव यात्रा निकाली। इन कदम का विरोध करते हुए लोगों ने शव यात्रा निकल अपना गुस्सा व्यक्त किया।IMG 20200618 WA0006IMG 20200618 WA0005

यह 50 सालों के अंदर भारत चीन की सबसे गम्भीर सैन्य मुठभेड़ हैं। चीन जबरन सिक्किम एवं लद्दाख के कुछ हिस्सों को कब्जे में करना चाहता हैं। चीन और भारत के विदेश मंत्रियों ने तनाव को “शांत” करने पर सहमति जताते हुए घातक सीमा संघर्ष पर टेलीफोन वार्ता की।

राष्ट्र के नाम एक टीवी संबोधन में, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चीन की सेना द्वारा लद्दाख में मारे गए सैनिकों का बलिदान “व्यर्थ नहीं जाएगा”।

Leave a Reply

%d bloggers like this: