कांग्रेस का मणिपुर में सरकार बनाने का दावा; शीर्ष नेतृत्व माकन के हाथ तथा गोगोई के जिम्मे निगरानी

Pic credit: ANI

मणिपुर में राजनीतिक संकट के बीच, कांग्रेस पार्टी ने अजय माकन को राज्य में पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। वह मणिपुर के AICC प्रभारी गौरव गोगोई के साथ एक विशेष उड़ान के माध्यम से आज राज्य पहुंचेंगे।

पार्टी के शीर्ष सूत्रों के अनुसार, नेताओं को राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति की देखरेख और देखभाल करने के लिए कहा गया है, जहाँ तीन भाजपा विधायक कांग्रेस में शामिल हुए, जबकि चार नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के विधायक, एक निर्दलीय विधायक और टीएमसी विधायक पीछे हट गए तथा राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार से समर्थन वापस ले लिया।

कांग्रेस ने गुरुवार को मणिपुर में सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया और राज्यपाल को पत्र लिखकर राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए फ्लोर टेस्ट की मांग की।

कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार, पार्टी को विश्वास मत के दौरान एक साफ जीत पाने का भरोसा हैं।

दोनों पक्षों की तरफ से वोटों की संख्या बदलने की उम्मीद है, लेकिन अगर कांग्रेस उत्तर पूर्व में उनके वापस आ गई तो इस क्षेत्र में समीकरण भी बदल जाएगा क्योंकि एनपीपी नागालैंड में भाजपा के साथ गठबंधन सरकार बनाए हुए है।

हालाँकि, कांग्रेस के सात विधायक, जो भाजपा से हार गए थे, वे वोट देने के पात्र नहीं होंगे क्योंकि उन्हें मणिपुर के उच्च न्यायालय द्वारा विधानसभा में प्रवेश करने से रोक दिया गया था, जब तक कि स्पीकर युनाम खेमचंद सिंह उनके खिलाफ लंबित विरोधी दलबदल के मामलों का निपटान नहीं कर देते।

Leave a Reply

%d bloggers like this: