अयोध्या में मंदिर निर्माण से पहले रुद्राभिषेक, शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को न्यौता

राम जन्मभूमि में मंदिर निर्माण से पहले परिसर में रुद्राभिषेक किए जाने का फैसला लिया गया है। मंदिर निर्माण में आने वाली बाधाओं को दूर रखने के लिए भगवान शिव की आराधना की जाएगी। इस रुद्राभिषेक को राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दस के उतराधिकारी महंत कमल नयन दास संपन्न करेंगे।

कुछ दिन पूर्व कमल नयन दास का कहना था कि भगवान राम ने स्वयं लंका पर विजय प्राप्ति से पहले भगवान रामेश्वर कि स्थापना कर उनका अभिषेक किया था। अतः हम भी मंदिर निर्माण पूर्व शशांक शेखर का पूजन करेंगे। मंदिर परिसर के कुबेर टीले पर रुद्राभिषेक की क्रिया संपन्न की जाएगी।

देश के मौजूदा हालात को देखते हुए अयोध्या में मंदिर निर्माण तो संभव नहीं दिख रहा है लेकिन शिलान्यास समारोह की तारीख तय की जा सकती है। इस शिलान्यास हेतु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को औपचारिक निमंत्रण भेजा जा चुका है और उसे स्वीकृति भी मिल चुकी है। शिलान्यास के लिए उचित मुहूर्त का इंतजार है। इस पखवाड़े तो इसके आसार कम ही दिख रहे हैं परन्तु देवशयन एकादशी मुहूर्त पर इसका आयोजन संभव है।

ये बहुत मुमकिन है कि देवताओं के शयन से ऐन पहले शिलान्यास का सूर्य उदित हो सकता है। श्रीराम ज्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के सूत्र बताते हैं कि 2 जुलाई को देव शयनी एकादशी है। अगर ये मुहूर्त निकल जाता है तो दीपावली के 11 दिन बाद ही अगला मुहूर्त आएगा। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के मुहूर्त में देवताओं की निशा शुरू हो जाती है फिर चार माह के लिए देवतागण सो जाते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: