COVID-19 संकट के बीच कोलकाता के गुरुद्वारे द्वारा हर रोज 4500 लोगों को खाना खिलाने की सेवा

Pic credit : ANI

कोलकाता में बेहाला गुरुद्वारा प्रबंधक समिति पिछले 50 दिनों से लॉकडाउन के लगने के बाद से ही इंडियन ह्यूमेनीटेरियन असोसिएशन (IHA) के साथ मिलकर रोज़ 4500 लोगो के लिए भोजन की सेवा कर रहे हैं।

गुरुद्वारा प्रबंधक समिति अपने अस्थायी सामुदायिक रसोईघर में दोपहर और रात का भोजन तैयार कर रही है, जहाँ महिलाएँ भी भोजन तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहीं हैं तथा सक्रिय रूप से भाग ले रही हैं जो कि जरूरतमंद लोगों को बाँटा जा रहा हैं।

बेहाला गुरुद्वारा प्रबधंक समिति के महासचिव सतेंद्र सिंह अहलूवालिया ने बातचीत के दौरान ANI को बताया, “शहर प्रशासन ने लॉकडाउन के दौरान बेघर और गरीबों के लिए अस्थायी आश्रयों की स्थापना की तथा वे मेरे पास आए और पूछा कि क्या हमें भोजन उपलब्ध कराया जा सकता है उसके पश्चात हमने इस काम में योगदान करना शुरू कर दिया।”

उन्होंने आगे वार्तालाप करते हुए बताया कि ” हम न केवल कोलकाता में, बल्कि भोजन उपलब्ध कराने का यह प्रयास दक्षिण 24 परगना, सतरागाछी और कई अन्य पॉकेट क्षेत्रों तक कर रहें है। हम अपने समूह के साथ काम कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हजारों लोग भूखे न सोएं और भोजन के बिना न रहें।”  

गुरुद्वारा कमेटी और इंडियन ह्यूमेनीटेरियन असोसिएशन (IHA)  ने प्रत्येक क्षेत्र के लिए स्वेच्छा से काम किया है। वे उन्हें प्रदान की गई जानकारी पर काम करते हैं और लोगों को उनकी ज़रूरत के अनुसार राशन और भोजन की आपूर्ति करते हैं । अहलूवालिया ने ANI से साझा करते हुए कहा, ” संकट की इस घड़ी में लोगों को एक-दूसरे की मदद करने के लिए एकजुट होना चाहिए और जरूरत पड़ने पर में और सेवा करने के लिए तैयार हूं।” 

Leave a Reply

%d bloggers like this: