नेपाल ने किया भारत के तीन इलाकों को नए नक्शे में शामिल, भारत बोला ये स्वीकार नहीं

नेपाल की संसद ने शनिवार को एक विवादित नक्शे का बिल पारित किया है, जिसमें भारत के तीन इलाकों: कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को उसने अपने नक्शे में शामिल किया है।

नेपाल की संसद ने अपने देश के नक्शे को अपडेट करने के लिए एक विशेष सत्र में एक संवैधानिक संशोधन बिल पर मतदान किया। नेपाल की प्रतिनिधि सभा ने इस विषय को सबके समुक्ख रखा, और फिर इस पर विचार-विमर्श समाप्त होने के बाद नेपाली संसद में इसे मतदान के लिए रखा। सभी 258 वोट पक्ष में थे और सदन की कुल संख्या 275 है, इसलिए संशोधन विधेयक को दो-तिहाई बहुमत से पारित किया गया।

भारत ने नए नक्शे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि नेपाल का यह दावा हमे स्वीकार नहीं है और यह बिल्कुल बनावटी है।

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने शनिवार को कहा, नेपाल के प्रतिनिधि सभा ने भारतीय क्षेत्र के कुछ हिस्सों को शामिल करने के लिए नेपाल के नक्शे को बदलने के लिए एक संविधान संशोधन विधेयक पारित किया है। हमने इस मामले पर अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर दी है। उन्होंने कहा, “यह दावा बिल्कुल काल्पनिक है और ऐतिहासिक तथ्य या साक्ष्यों पर आधारित नहीं है।

नेपाल ने संसद में तो बिल पारित कर दिया है लेकिन इसे अभी आगे की प्रक्रिया से गुजरना होगा। इसे नेशनल असेंबली में भेजा जाएगा जहां यह एक समान प्रक्रिया से गुजरेगा। नेपाल की नेशनल असेंबली में बिल पास होने के बाद, इसे राष्ट्रपति को प्रमाणीकरण के लिए प्रस्तुत किया जाएगा, जिसके बाद बिल को संविधान में शामिल किया जाएगा। हम आपको बता दे की भारत ने इस पर अपना कड़ा रुख जताया है और ये साफ कर दिया है कि उसे यह स्वीकार नहीं है।

 

 

 

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: