ताजा रिपोर्ट के अनुसार चीनी सैनिकों ने की थी भारतीय सैनिकों के शरीर को विकृत करने की कोशिश

चीन और भारत के बीच हुए खूनी झड़प में एक ताजा जानकारी सामने आई है। इकनॉमिक टाइम्स के ताजा रिपोर्ट के अनुसार चीन के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने अत्यधिक हिंसा भड़काया और भारतीय सैनिकों के साथ बेहद बर्बरता की।

रिपोर्ट में मिली जानकारी के अनुसार गलवान हमले में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के चेहरों पर गहरे घाव के निशान मिले हैं। विश्लेषकों का कहना है कि चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर हमले के लिए कील जड़ी छड़ों का इस्तेमाल किया।
चीन के सैनिकों ने इस हद तक बर्बरता करने का प्रयास किया कि भारतीय सेना के जवानों के चेहरे भी पहचान में नही आ पा रहे थे। चीनियों ने भारतीय सैनिकों के गर्दनों को काटने का भी प्रयास किया।

एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा, “तकरीबन 17 जवानों के शारीर पर अत्यधिक हिंसा के निशान थे। अस्पताल और आर्मी बेस में मौजूद सेना के अधिकारियों को जवानों के शरीर के तस्वीर ना लेने के निर्देश दिए गए थे। तीन की मौत डूबने की वजह से होने की आशंका है और बाकी जवानों के पूरे शरीर पर घाव थे। कम से कम तीन सैनिकों के चेहरे पहचान में नहीं आ पा रहे थे और बाकियों के गर्दनों पर कटने के निशान थे।”

18 जून को मिली रिपोर्ट के मुताबिक ये जानकारी मिली थी कि चीन के सैनिकों ने भारतीय जवानों के शरीर को विकृत करने का प्रयास किया है। इस खबर के बाद भारतीय दल में बेहद गुस्से का माहौल था।

चीन की सेना ने भारतीय दल पर एक सोची समझी और पूर्व निर्धारित साजिश के तहत गलवान घाटी में हमला किया। रिपोर्ट की माने तो चीनी सैनिकों की संख्या भारतीय सैनिकों से पांच गुना ज्यादा थी। इसके बावजूद भारतीय जवानों ने बहादुरी से उनका सामना किया और करीब 40 चीनी सैनिकों को घायल किया।

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: