प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के नाम संबोधन : लॉकडाउन 4.O

राष्ट्रव्यापी तालाबंदी के समाप्त होने के पांच दिन पहले राष्ट्र को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि तालाबंदी का चौथा चरण एक नए रूप में होगा।  “वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोनावायरस बहुत लंबे समय तक हमारे जीवन का एक हिस्सा होगा। लेकिन हम अपने जीवन को उसके आसपास ही सीमित नहीं रहने दे सकते। हम मास्क पहनेंगे और सामाजिक संतुलन बनाए रखेंगे लेकिन हम इस वायरस से स्वयं को प्रभावित नहीं होने देंगे। ”  उन्होंने संबोधन करते हुए इस बात को भी कहा कि 18 मई से पहले नए नियमों की घोषणा की जाएगी।

प्रधानमंत्री ने भाषण की शुरुआत में ही कह दिया कि ” विश्व की मौजूदा स्थिति एक बात ही चीज़ को सिखाती हैं, वह हैं आत्मनिर्भर भारत। इस बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया जो कि भारत की इकोनॉमी का लगभग 10 प्रतिशत सकल घरेलू उत्पाद हैं। प्रधानमंत्री ने बताया कि पैकेज देश को आत्मनिर्भर बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले कुटीर,लघु,मझोले उद्योगों के साथ ही बड़े उद्यमियों, हर मौसम में दिन रात परिश्रम करने वाले किसानों और श्रमिकों और ईमानदारी से कर अदा करने वाली जनता के लिए होगा। इससे पहले अमेरिका अपनी जीडीपी के 11 प्रतिशत  के बराबर का पैकेज घोषित कर चुका हैं तथा जापान ने 20 प्रतिशत। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बुधवार को इससे जुड़ी घोषणाओं के बारे में विस्तार से बताएँगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर रणनीति पांच स्तंभों पर निर्भर करेगी, एक नई अर्थव्यवस्था को बढ़ाना, एक अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा तैयार करना, एक प्रौद्योगिकी-आधारित वितरण प्रणाली स्थापित करना, युवा जनसांख्यिकी का लाभ उठाना और घरेलू मांग का फायदा उठाना। पीएम ने इस बात के संकेत भी दिए कि सरकार की घोषणाएं देश में आर्थिक सुधारों को लाने की क्रांति के रूप में काम करेगी तथा देश के विभिन्न सेक्टर के मजदूरों को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देंगी।

प्रधानमंत्री ने ऐसे समय में देश के लिए आत्मनिर्भरता हासिल करने पर जोर दिया क्योंकि महामारी ने अर्थव्यवस्था की गति को धीमा कर दिया हैं तथा उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि  “देश की अर्थव्यवस्था को सुव्यवस्थित रखने के लिए आत्मनिर्भरता हमारी नई प्रतिज्ञा होगी तथा हमें इस नए संकल्प के साथ आगे बढ़ना होगा।” कोविड -19 के प्रकोप के बाद यह प्रधानमंत्री का देश को पांचवा संबोधन है तथा कोरोना ने अब तक 2,293 लोगों की जान ली है और देश में 70,756 लोगों को संक्रमित किया है।

पीएम मोदी आगे कहते हैं, “संकट भारत के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर लेकर आया है। हम इस लड़ाई में एक महत्वपूर्ण मोड़ पर हैं। एक आत्मनिर्भर भारत ही एकमात्र रास्ता है। हमें भारत के बाद के विश्व के क्रम में भारत को उत्कृष्ट बनाने की जरूरत है।” 

वह आगे कहते हैं कि “हमने इस तरह के संकट के बारे में पहले कभी नहीं सुना था तथा न ही देखा था। यह निश्चित रूप से मानव जाति के लिए अकल्पनीय है  अभूतपूर्व हैं लेकिन मानवता इस वायरस से हार नहीं मानेगी। हमें न केवल अपनी रक्षा करनी है, बल्कि आगे बढ़ना है।”  

पीएम मोदी का संबोधन महाराष्ट्र के पंजाब, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ छह घंटे की मैराथन बैठक आयोजित करने के एक दिन बाद हुआ है।  अन्य लोगों ने प्रतिबंधों में और ढील के लिए कहा हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इस बात पर जोर दिया कि लॉकडाउन का चौथा चरण पूरी तरह से नए रंग-रूप और नियमों वाला होगा। इस बारें में राज्यों से सुझाव मांगे गए हैं। 

 


 

Leave a Reply

%d bloggers like this: