पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन जमीन विवाद के संदर्भ में जारी रखेंगे सैन्य बातचीत

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद में कुछ खासा बदलाव नहीं दिख रहा है। दोनों देशों ने बातचीत जारी रखने का निर्णय लिया है।
दोनों देश पूर्वी लद्दाख में चल रहे जमीन विवाद के मदेनजर सैन्य बातचीत जारी रखेंगे और संयुक्त रूप से कोई हल निकालने की कोशिश करेंगे। चीन ने भारी संख्या में अपने जवानों को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर तैनात कर रखा है।

सूत्रों ने कहा, “ बुधवार को मेजर स्तरीय बातचीत के बाद, अगले कुछ दिनों में चुशूल में विभिन्न स्तरों पर बातचीत की जाएगी और विशिष्ट इलाकों में मतभेद को दूर करने की कोशिश होगी।”

सूत्रों ने ये भी बताया कि गलवान इलाके में गश्त बिंदु 14, गश्त बिंदु 15(114 ब्रिगेड इलाका), गश्त बिंदु 17(हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र) में विवादों को सुलझाने के लिए बातचीत होगी।
इसमें जोड़ते हुए सूत्रों ने बताया कि कल हुई मेजर स्तरीय बातचीत के बाद अब ब्रिगेड और बटालियन स्तर पर बातचीत होगी।

6 जून को मोल्डो के विपरीत चुशूल पर कमांडर स्तरीय बातचीत के बाद 14 कोर के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीनी मेजर जनरल लियू लिन के बीच मेजर स्तरीय बातचीत हुई थी।

पहली दौर के वार्ता के बाद दोनों देशों के सैनिक गालवान नाला, PP 15, और हॉट स्प्रिंग्स में अपने गतिरोध की स्थिति से 2-2.5 किलोमीटर विघटित हुए।
दोनों देशों ने कमांडर और बटालियन स्तर पर वार्ता करने का फैसला किया है। वो इस बातचीत के जरिए दोनों पक्षों की संतुष्टि के लिए सौहार्दपूर्ण समाधान ढूंढने की कोशिश करेंगे।

 

ये भी पढ़ें: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सीमा विवाद पर चीन को चेताया, शांति से हल निकालने का दिया सुझाव

Leave a Reply

%d bloggers like this: