चीन ने भारतीय सैनिकों पर लगाया घुसपैठ का आरोप

चीन ने सोमवार को भारतीय सेना पर, विवादित अक्साई चिन क्षेत्र की गैलवान घाटी क्षेत्र में घुसकर, अवैध सुरक्षा निर्माण करने का आरोप लगाया है| गैलवान घाटी वाले क्षेत्र पर बीजिंग का नियंत्रण है मगर इस जगह पर नई दिल्ली द्वारा दावा किया जाता  है|

राज्य की मीडिया रिपोर्ट में, एक अनाम सैन्य स्त्रोत की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार, कहा गया है कि चीन ने उस सीमा क्षेत्र में नियंत्रण उपायों को बढ़ा दिया है|

भारतीय और चीनी सैनिकों के संघर्ष के इस ताज़ा दौर से पहले, दोनों पडोसी देशों की सेनाएं सिक्किम की सीमा के पास एक सुदूर स्थल पर टकराई थीं जिसमे दोनों तरफ के सैनिक भी घायल हो गये थे|

द नेशनालिस्टिक टेबलायड ने सोमवार को गैलवान घाटी में हुए घटनाक्रम के बारे में एक रिपोर्ट प्रकाशित की|

भारत और चीन का सीमा विवाद दशकों से चलता आ रहा है और इसकी परछाई पड़ोसी मुल्कों के आपसी संबंधों पर भी छाई रहती है| दोनों पड़ोसियों के बीच 3,488 की.मी. लम्बी सीमा है जिसके विवाद को सुलझाने के अब तक के सभी प्रयास विफल रहे हैं| 1,962 के युद्ध से पहले भी दोनों सेनाएं इस क्षेत्र मे टकराई थीं|

सोमवार शाम तक चीनी विदेश मंत्रालय या रक्षा मंत्रालय की तरफ से इस घटना को लेकर कोई ब्यान जारी नहीं किया गया है| वैसे बता दें की चीन की तरफ से ये कहा जाता रहा है की गैलवान घाटी का क्षेत्र झिंजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र (एक्सयूएआर) के होटन प्रान्त में स्थित है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत मई के शुरू से ही इस क्षेत्र में आकर किलेबंदी कर रहा है ताकि चीनी सेना की तरफ से गश्त लगाने वाले सैनिकों के काम मे बाधा डाल सके| रिपोर्ट मे कहा गया है की ये क्षेत्र चीन का हिस्सा है| सूत्रों के मुताबिक” गैलवान घाटी क्षेत्र चीन का हिस्सा है, और स्थानीय सीमा नियंत्रण की स्थिति बहुत स्पष्ट थी। भारतीय पक्ष द्वारा की गई कार्रवाइयों ने चीन और भारत की सीमा के मुद्दों पर समझौतों का गंभीर उल्लंघन किया है| इससे दोनों देशों के बीच सैन्य संबंधों को काफी नुकसान पहुंचा है|”




										

Leave a Reply

%d bloggers like this: