स्पेसएक्स के पहले यात्री स्पेस फ्लाइट को नासा की हरी झंडी

नासा ने अगले हफ्ते शुक्रवार को 2 एस्ट्रोनॉट्स को ले जाने वाले स्पेसएक्स के यान के लांच को मंजूरी दे दी है। यह पिछले 9 सालों में यूएस की धरती से पहली क्रू स्पेस फ्लाइट होगी और अमेरिका की रूसी रॉकेटों पर निर्भरता खत्म करने की ओर एक अहम कदम होगा। ड्रैगन स्पेस कैप्सूल के 27 मई को लांच होने के पूर्व आखिरी चेकिंग करने के लिए एलोन मसक की कम्पनी और नासा के अधिकारी गुरुवार से ही फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर पर मिल रहे हैं।

नासा के एडमिनिस्ट्रेटर जिम ब्रीडनस्टिन ने वीडियो के जरिये बताया ” आखिरकार हम जाने के लिए तैयार हैं” जिससे मिशन के अंतिम चरणों को आगे बढाने की मंजूरी मिली।

अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री रॉबर्ट बेहेनकेन और डगलस हर्ले को कैनेडी के इतिहासिक लांच पैड 39ए से गुरुवार को सुबह (आई.एस.टी) 2:03 बजे, अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए उड़ान भरनी है और वह अगले दिन अपनी मंजिल पर पहुंचेंगे।

जब बेहेनकेन से दुनिया में कोरोना महामारी के चलते मिशन को आगे बढाने के बारे मे पूछा गया तो उन्होंने कहा ” जहां चाह है वहां राह है।”

बेहेनकेन और हर्ले को 13 मई से ही कड़े क्वारंटाइन में रखा गया है मगर उन्होंने बताया कि उनका असल में एकांत मार्च के मध्य से ही शुरू हो गया था। हर्ले ने कहा “हम जितने समय से एकांत में हैं शायद ही दुनिया का कोई और स्पेस क्रू हो जो इतने लम्बे समय तक एकांत में रह चुका हो। मुझे और बेहेनकेन को अब तक 2 बार कोरोना के लिये जांचा जा चुका है और ऐसा सुनने में आया है कि जाने से पहले एक बार फिरसे हमारा कोरोना टेस्ट हो सकता है।”

अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री 2011 में यूएस स्पेस शटल प्रोग्राम बन्द हो जाने के बाद से आईएसएस पर रूसी रॉकेटों की मदद से जाते रहे हैं जहां पर इस समय 2 रूसी और एक अमेरिकी मौजूद है।

अगर स्पेसएक्स मिशन कामयाब होता है तो अमेरिका अपने लक्ष्य में कामयाब हो जाएगा और फिर इसे रूसी सोयूज़ रॉकेटों में अपने अंतरिक्ष यात्रियों को आईएसएस भेजने के लिए सीट नहीं खरीदनी पड़ेगी।

नासा ने स्पेसएक्स के साथ 23,552 करोड़ और बोइंग के साथ 37,228 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट किया है ताकि वो एक बार फिरसे अंतरिक्ष में जाने के लिए आत्मनिर्भर बन सके। हालांकि इस मिशन के बाद भी अमेरिका अपने कुछ अंतरिक्ष यात्रियों को रूसी सोयूज़ के ज़रिए ही अंतरिक्ष में भेजेगा।

बेहेनकेन और हर्ले पिछले 5 सालों से क्रू ड्रैगन कैप्सूल पर तयारी कर रहे हैं। इसमे 1960 के अपोलो कैप्सूल के स्विच और बटन के विपरीत टच स्क्रीन का उपयोग किया जा रहा है। स्पेसएक्स कैप्सूल में अगर उड़ान भरने के बाद कुछ खराबी आती है तो इसके लिए एक इमरजेंसी एस्केप सिस्टम भी लगाया गया है। कई महीनों के मिशन के बाद जब क्रू ड्रैगन वापस धरती पर आएगा तो इसको अपोलो की तरह ही समन्दर में उतारा जाएगा और 4 बड़े पैराशूट की मदद से इसकी रफ्तार कम की जाएगी।

अगर यह मिशन कामयाब होता है तो स्पेसएक्स अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्रियों को भेजने वाली पहली प्राइवेट कम्पनी बन जाएगी। स्पेसएक्स भविष्य में गैर-अमरीकी अंतरिक्ष यात्रियों को भी अंतरिक्ष में ले जाएगी। मस्क की कम्पनी अंतरिक्ष में पर्यटकों को भेजना चाहती है और 2021 के दूसरे भाग में एक प्राइवेट 3 यात्रियों वाले मिशन की तैयारी कर रही है। इस अंतरिक्ष यात्रा की टिकट कई मिलियन डॉलर तक हो सकती है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: