ब्रिटेन के वैश्विक वैक्सीन मिशन में शामिल हुआ भारत

Pic credit : ANI

लंदन(यूके) :यूनाइटेड किंगडम द्वारा गुरुवार को ग्लोबल वैक्सीन सम्मिट 2020 का आयोजन किया गया, जिसके अंतर्गत वैश्विक वैक्सीन आपूर्ति और टीकाकरण का समर्थन करने के लिए वित्तपोषण में 7.4 बिलियन अमरीकी डालर की सहायता की बात की गई।

 इस वर्चुअल इवेंट में 50 से अधिक देशों के प्रतिनिधि ,व्यापार नेता, संयुक्त राष्ट्र एजेंसियां, सरकार के मंत्री, प्रधान मंत्री मोदी सहित राज्य और देश के कई नेताओं ने हिस्सा लिया तथा Gavi, वैक्सीन गठबंधन को अपना समर्थन देने का वचन दिया।  आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के अनुसार, इसके द्वारा अगले पांच वर्षों में लगभग 8 मिलियन लोगों की जान बचाई जा सकती हैं।

कोरोनावायरस महामारी के दौरान Gavi के नियमित टीकाकरण के प्रयास संक्रामक रोगों के प्रसार और अन्य महामारियों के पुनरुत्थान को रोकने में मदद कर सकते हैं। यदि एक सुरक्षित और प्रभावी कोरोनावायरस वैक्सीन विकसित की जाए,तो दुनिया भर में इसकी डिलीवरी की जा सकेगी।

 ब्रिटेन के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा: “मुझे उम्मीद है कि यह शिखर सम्मेलन दुनिया को बीमारी के खिलाफ लड़ाई में मानवता को एकजुट करने में सफल साबित होगा। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि इस जीवन भर के गठबंधन को मजबूत करने और वैश्विक स्वास्थ्य के एक नए युग का उद्घाटन करने के लिए हमसे जुड़ें। “

भारत के कार्यवाहक उच्चायुक्त जान थॉम्पसन ने कहा: “मैं आज के शिखर सम्मेलन में प्रधान मंत्री मोदी द्वारा इस तरह के मजबूत समर्थन को देखकर और वैश्विक एकजुटता के महत्व के बारे में उनके संदेश को सुनकर प्रसन्न हुआ। जैसा कि उन्होंने कहा, भारत की टीके बनाने की क्षमता,कम लागत और अनुसंधान विशेषज्ञता बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

यूके Gavi का प्रमुख दाता है और पहले से ही कोरोनावायरस की अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया में प्रमुख भूमिका निभा रहा है।  बता दें, Gavi एक अंतरराष्ट्रीय संस्था हैं जो अब तक 2000 से ज़्यादा वैक्सीन बना चुकी हैं तथा यह एक सार्वजनिक-निजी वैश्विक स्वास्थ्य की साझेदारी है जिसका लक्ष्य गरीब देशों में टीकाकरण की पहुंच बढ़ाना है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: